चेहरे के पीछे वह चेहरा


कल ही एक तुम्हारी पुरानी तस्वीर देखी थी मैंने अपने लैपटॉप में 
आज जब तेरे सामने से तुझे देखा तो सोचा कितना बदल जाता है चेहरा और चेहरे के पीछे वह चेहरा 
गुजर गए मेरे पास से मेरे सामने से पलट के देखे भी नहीं 
तेरी अनगिनत यादें आज भी मेरे हर एहसास में जिंदा है.
                                                 By Hemant Sarkar

You May Also Like

0 comments